Poetry.com

2 42 0

मुमकिन तो नहीं

Date Written: October 20, 2017
Categories:
 

ह मुमकिन तो नहीं की कोई मुझे भूल पायेगा ,

कोई मेरे वजूद को कैसे मिटा पायेगा ,

मैं वो खुशबु हूँ जो हर हवा के 

झोके के साथ महसूस होंगी ,

मेरे होने का एहसास ज़र्रे ज़र्रे में पायेगा

Leave a Reply

No image शुक्रिया है ज़िन्दगी  तूने जीना है सिखायातेरा शुक्रिया है ज़िन्दगीकभी हसाया कभी रुलाया तेरा…
by Amandeep
1 120 0

Amandeep

share
ADD TO COLLECTION
Register
Send message