Poetry.com

2 38 1

कुसूर लोगों का नही

Date Written: October 20, 2017
Categories:
 

लोग रहना ही नहीं चाहते थे मेरे साथ

फेंक कर बाहर अपने दिल से

बहाना मजबूरियों का बना लिया

ख़ैर!!

कुसूर लोगों का नही मेरा है

जो लोगों को समझने में

मैने धोखा खा लिया

One comment on “कुसूर लोगों का नही”

  1. Amandeep     October 20, 2017

    BHT KHOOB ……HEART TOUCHING

Leave a Reply

No image मैं जहाँ कभी सोचा भी न था होने कोआज वहाँ हु…
by Sonia Crt
1 30 0
Image मैं जहाँ कभी सोचा भी न था होने कोआज वहाँ हु…
by Sonia Crt
1 12 0
No image WHAT IS LIFE Life is an unkempt thoughtPulling abundance of stockA weird route…
by Sonia Crt
1 90 0

Sonia Crt

share
ADD TO COLLECTION
Register
Send message