Poetry.com

2 23 4

ज़िन्दगी का जवाब

Date Written: November 12, 2017
Categories:
 

पूछा एक सवाल मैने ज़िन्दगी से 

क्यों मुझसे इतनी नफरत है तुझे 

ज़िन्दगी ने भी हस कर जवाब दिया मुझे 

नफरत तुझ से नही तेरे वक्त से है 

नाराज़गी तुझसे नही तेरे अन्दर के शख्स से है 

जो मुझे जीना तो चाहता है मगर जीता नही

मैं एक मीठा ज़हर हु जो वो पीता नही

फटे है जो पन्ने मेरी किताब के

उन्हे फिर से सीना सीखो

सबसे नायाब तोहफा हु मै 

मुझे खुल कर जीना सीखो

4 comments on “ज़िन्दगी का जवाब”

  1. Amandeep     November 13, 2017

    very nice sonia….
    every word touched my heart

  2. Sonia Crt     November 13, 2017

    thank u Aman

  3. Uma Natarajan     November 13, 2017

    Kya khoob likha hai nafrat Bhi ek nayab taufa hai mushkil se milta hai mughe nafrat se Bhi pyar hai

  4. Sonia Crt     November 14, 2017

    thank you mam for your nice comment

Leave a Reply

No image A POOR Some people have no sense of shameThey only concentrate on…
by Sonia Crt
1 115 1
No image STOP KNOCKING All my dreams are sleepingMy soul is crying and weepingTo…
by Sonia Crt
2 135 2
No image TO BE STRONG As a women i can say i am so strongbut there…
by Sonia Crt
2 170 5

Sonia Crt

share
ADD TO COLLECTION
Register
Send message